Latest Politics

आखिर कब थमेगा शिवराज के राज में किसानों की ‘आत्महत्या’ ?

मध्य प्रदेश में कर्ज़ माफ़ी को लेकर पहले किसानों ने आंदोलन किया लेकिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के आश्वासन और कर्ज़ माफ़ी के भरोसे के बाद इस आंदालन को किसानों ने खत्म किया। पर लगता है किसानों में अभी भी तनाव है जो उन्हें खुदखुशी करने के लिए मजबूर कर रहा है। प्रदेश के सागर में कर्ज़ से परेशान किसान गुलई कुर्मी ने साहूकार के कर्ज़ से तंग आकर आत्महत्या कर ली है। पुलिस को एक सुसाइड नोट भी मिला है।

उधर, छतरपुर के पहाड़िया गांव के किसान महेश तिवारी ने भी आत्महत्या कर ली है क्योंक उसकी चने की फसल बर्बाद हो गई थी। बता दें कि, किसान आंदोलन के बाद से अब तक मध्य प्रदेश में 16 किसानों ने आत्महत्या कर ली है। प्रदेश सरकार ने तो कह दिया कि वो किसानों के हित में कार्य कर रही है लेकिन किसानों की आत्महत्या तो कुछ और ही बयान कर रही है।