Bollywood Latest

Video: सुनिए अक्षय की आवाज़ लड़कियों के मेनस्ट्रुएशन पर…

समय के साथ बदलाव ज़रूरी है और ये बदलाव तभी आएगा जब हमारी सोच बदलेगी। पीरियड्स (मासिक धर्म) इस एक शब्द को समाज में बोलना वर्जित था और किसी ने कभी खुलकर बोल दिया तो मानो उससे कितनी बड़ी गलती हो गयी हो लेकिन समय के साथ इसे लेकर भी बदलाव आ रहा है. लोग अब खुलकर पीरियड्स के ऊपर बोल रहे हैं तभी तो सेनेटरी पैड्स के प्रचार अब गलत भावना की और इशारा नहीं करते।

दरअसल, टीवी में तो मेन्स्ट्रुएशन पर बात बोलना या ऐसे शब्दों का इस्तेमाल करना काफी हद तक अब गलत नहीं समझा जाता लेकिन आज समाज में कुछ वर्ग ऐसे भी हैं जो खुलकर इसपर बोलना गलत और शर्म भरा समझते हैं. लड़कियां खुद भी कुछ खुलकर कहने से हिचकिचाती हैं और उन दिनों में थोड़ा टेंशन में भी होती हैं.

 

अब इसी मिथ्या को खत्म करने के लिए एक कविता बनाई है अरण्य जौहर ने और इसे अक्षय कुमार ने ट्वीट करके शेयर किया है. अक्षय ने ये संदेश देने की कोशिश की है कि मेनस्ट्रुएशन के बारे में लड़कियों को कोई शर्म या गलत नहीं लगना चाहिए और न ही उन्हें इसे उनकी कमजोरी समझन चाहिए, बस सोच में बदलाव ज़रूरी है. उन्होंने लिखा है, ‘मेन्स्ट्रुएशन पर अपनी चूपी तोड़े क्योंकि ये कोई छुपाने की चीज नहीं है और न ही आपकी कमजोरी.’

उनका ये ट्वीट तेजी से वायरल भी हो रहा है. बता दें कि अक्षय की आने वाली फिल्म ‘पैडमैन’ अरुणाचलम मुरुगनंथम पर आधारित है जिसने गांव में रहने वाली औरतों के लिए सैनिटरी पैड्स सस्ते दामों में उपलब्ध कराये थे.