Crime Indian Politics Latest Politics Politics

खुलासा : 10 करोड़ घूस के बदले जज ने दी ज़मानत

उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति को ज़मानत मिलने के मामले में एक नया मोड़ आ गया है। दरअसल, इलाहबाद हाईकोर्ट द्वारा कराई गयी जांच में खुलासा हुआ है कि, गायत्री प्रजापति को ज़मानत देने के बदले में 10 करोड़ रूपये घूस के तौर पर लिए गए थे। जांच एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक़ ये पैसा पॉक्सो कोर्ट के जज ओपी मिश्रा तथा दो वकीलों में बंटा था।

रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि, गायत्री प्रजापति को ज़मानत मिलने से पहले तीनों के बीच क़रीब तीन बार मीटिंग्स भी हुईं थीं। मामले को गंभीरता से लेते हुए इलाहाबाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस दिलीप बी भोसले ने गायत्री को जमानत मिलने पर जांच के आदेश दिए थे। जांच में संवेदनशील मामलों की सुनवाई करने वाली कोर्ट में जजों की पोस्टिंग में हाईलेवल करप्शन की बात सामने आई है।

आपको बता दें कि, गायत्री प्रजापति पर एक महिला से दुष्कर्म तथा ब्लैकमेल का आरोप लगा था। जिसके बाद गायत्री प्रजापति और उनके 6 अन्य लोगों के ख़िलाफ़ FIR दर्ज़ की गयी थी। विक्टिम महिला ने अपनी शिकायत में कहा था कि एक करीबी ने 3 साल पहले उसकी मुलाकात गायत्री से कराई थी। महिला ने कहा था कि गायत्री ने उसकी कुछ आपत्तिजनक फोटोज लीं और कई बार ब्लैकमेल भी किया।

मामला सुप्रीम कोर्ट में पहुँचने के बाद उनके ख़िलाफ़ लुकआउट नोटिस जारी किया गया। जिसके बाद यूपी पुलिस ने गायत्री प्रजापति की गिरफ़्तारी के लिए जगह- जगह दबिश दी थी जिसके बाद 15 मार्च को लखनऊ से गायत्री को पुलिस ने गिरफ्तार किया। लेकिन 25 अप्रैल को पॉक्सो कोर्ट के जज ओपी मिश्रा ने गायत्री प्रजापति को जमानत दे दीथी।