dharam Latest

रोंगटे खड़े कर देगा निधिवन का ये राज़….

ये रहस्य है एक रात का लेकिन इस रात के रहस्य को कोई नहीं जानता और जान भी नहीं सकता क्युकी यहाँ रात को आँखे खोलना मना है। यहाँ जो कुछ भी होता है उसे जानने की इज़ाज़त किसी को भी नहीं है। अगर कोई इस राज़ को जानने की गुस्ताखी करता है तो वो या तो अँधा, गूंगा, बहरा या पागल हो जाता है।

भारत में कई ऐसी जगह है जो अपने दामन में कई रहस्यों को समेटे हुए है.. ऐसी ही एक जगह है वृंदावन का निधि वन। निधिवन में हर रात वो होता है जिसकी कल्पना भी आपने नहीं की होगी। मान्यता है की यहाँ आज भी हर रात कृष्ण गोपियों संग रास रचाते है.. कृष्ण यहाँ केवल आकर रास ही नहीं रचाते बल्कि रास के बाद निधिवन रंग महल में शयन करते हैं। शयन के लिए पलंग लगाया जाता है। सुबह बिस्तर को देखने से लगता है कि यहां निश्चित ही कोई रात को आया था।

निधिवन के वृक्षों की खासियत ये है कि यहाँ किसी भी वृक्ष के तने सीधे नहीं मिलेंगे और इन वृक्षों की डालियां नीचे की ओर झुकी और आपस में गुंथी हुई रहती हैं। निधिवन में हर रात होने वाली श्रीकृष्ण की रासलीला को देखने वाला अंधा, गूंगा, बहरा, पागल और उन्मादी हो जाता है ताकि वो इस रासलीला के बारे में किसी को बता ना सके। निधिवन में कई जगह ऐसे ही कई लोगों की समाधि बनी है जिन्होंने यहाँ रात को रुकने की गुस्ताखी की

यूँ तो हर किसी की भगवान् में आस्था होती हैऔर ये माना जाता है कि भगवान् हमारे बीच ही है लेकिन अगर आपको उनकी मौजूदगी साफ़ तौर महसूस करनी है तो एक बार वृन्दावन जरूर जाएं। बस निधिवन में रात को रुकने की गुस्ताख़ी न करें। वैसे इस बात में कितनी सच्चाई है ? क्या वाकई वहां रात में रुकने से इंसान पागल हो जाता है ? क्या वाकई वहां श्री कृष्ण यहाँ आते हैं ? ऐसे कई राज़ निधिवन में दफ़न हैं जो सालों से राज़ हैं और आगे भी राज़ ही रहेंगे !