BJP Congress Indian Politics Latest Politics Politics

मीडियाकर्मियों से बदसलूकी के बाद तेजस्वी यादव ने ली मामले की जांच की जिम्मेदारी 

बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के सुरक्षाकर्मियों ने कल पटना सचिवालय के बाहर मीडियाकर्मियों के साथ बदसलूकी की थी जिसको लेकर अब खुद तेजस्वी यादव आगे आये हैं और उनका कहना है कि ऐसी घटना नहीं होनी चाहिए और मैं खुद इस मामले को देखूंगा और जांच कराऊंगा।
तेजस्वी ने कहा कि  ‘’मीडिया के लोगों पर हुए हमले को लेकर जो जानकारी दी जा रही है वो भ्रम फैलाने वाली है, मीडिया के लोगों की गुजारिश के बाद मैं 5-7 मिनट तक रुका रहा ताकि धक्कामुक्की रुके लेकिन मेरी कोशिश बेकार चली गई।  मैं समझता हूं कि मीडिया के लोगों खासकर कैमरामैन का काम कितना मुश्किल होता है, वो एक दूसरे पर गिर रहे थे।  कुछ मीडिया के लोग बिल्कुल मेरे शरीर के पास माइक लेकर मौजूद थे।
मेरे सिर और कान पर खरोंच भी आई, ऐसा लग रहा था कि 10 माइक मेरी नाक पर गिर जाएंगे।  मैंने खुद को बचाया, मेरे सुरक्षाकर्मी मेरा बचाव कर रहे थे और अपनी ड्यूटी निभा रहे थे।  मैं मीडिया से बात कर रहा था इसलिए दूसरी तरफ क्या हो रहा था ये मुझे नहीं पता था, एक कैमरामैन का कैमरा स्वास्थ्य मंत्री (तेजप्रताप यादव) के सिर पर जा लगा।  लेकिन इसकी खबर सामने नहीं आई, ये खबर सामने आने की जरूरत भी नहीं थी क्योंकि भीड़ की वजह से ऐसा हुआ।
 साथ ही उन्होंने कहा कि मेरे कई सुरक्षाकर्मियों को भी खरोंच आई है, ऐसे मौके पर जब सैकड़ों मीडियाकर्मी हमें बयान लेने के लिए घेर लेते हैं तो हमारे लिए, मीडिया के लिए और सुरक्षाकर्मियों के लिए मुश्किल हो जाता है।  कुछ चैनल पर ये रिपोर्ट चल रही थी कि मेरे और आरजेडी के समर्थकों के निर्देश पर मारपीट  की गई।  ये आरोप निराधार है, हम हमेशा से मीडिया से अच्छा बर्ताव करते हैं और उनकी बातों का जवाब देते हैं, मीडिया पर किसी तरह के आरोप की हम निंदा करते हैं।  ऐसी घटनाएं नहीं होनी चाहिए, मैं खुद इस मामले को देखूंगा और जांच कराऊंगा’’
तो वंही दूसरी तरफ जेडीयू के प्रवक्ता अजय आलोक का कहना है कि “जो हुआ वो गलत है, पत्रकार और राजनेता एक दूसरे के पूरक हैं। सुरक्षाकर्मियों की पहचान करके उन पर कार्रवाई की जाएगी, अब कैबिनेट की बैठक सचिवालय में नहीं योजना भवन में होगी”