Khabron se Hatkar Latest Politics

हर साल 5 जून को ही क्यों मनाते है ‘पर्यावरण दिवस’

आज विश्वभर में पर्यावरण दिवस मनाया जा रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस अवसर पर ट्वीट करके सभी को संदेश देते हुए कहा, इस साल की थीम ‘लोगों को प्रकृति से जोड़ना’ कुछ और नहीं बल्कि ये ‘अपने आप से जुड़ने’ का तरीका है.’

मोदी ने कहा, ‘हमारे पर्यावरण की सुरक्षा और एक बेहतर ग्रह बनाने के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को दोहराने के लिए विश्व पर्यावरण दिवस एकदम सही समय है. हम उन सभी लोगों और संगठनों की इच्छाशक्ति एवं प्रतिबद्धता को सलाम करते हैं, जो पर्यावरण के संरक्षण की दिशा में काम कर रहे हैं.’

क्यों मनाया जाता है पर्यावरण दिवस?

धरती का बढ़ता ताप और प्रदुषण इंसानों के साथ-साथ सभी जीवों के लिए खतरा बन रहा है. अगर हम अपने पर्यावरण का ही ख्याल नहीं रखेंगे तो आने वाले सालों में पर्यावरण से संबधित समस्यायें इतनी बढ़ जाएँगी कि जीवन जीना मुश्किल होने लगेगा। पर्यावरण के प्रति जागरूकता और राजनीतिक चेतना जागृत करने के लिए हर साल पर्यावरण दिवस मनाया जाता है.

या यूं कहे कि विश्व पर्यावरण दिवस पर्यावरण की सुरक्षा और संरक्षण हेतु पूरे विश्व में मनाया जाता है। वर्ष 1972 में संयुक्त राष्ट्र द्वारा मानव पर्यावरण विषय पर संयुक्त राष्ट्र महासभा का आयोजन किया गया था। इसी चर्चा के दौरान विश्व पर्यावरण दिवस का सुझाव भी दिया गया और इसके दो साल बाद, 5 जून 1974 से इसे मनाना भी शुरू कर दिया गया। 19 नवंबर 1986 को पर्यावरण अधिनियम लागु किया गया. 1987 में इसके केंद्र को बदलते रहने का सुझाव सामने आया और उसके बाद से ही इसके आयोजन के लिए अलग अलग देशों को चुना जाता है. इसमें हर साल 143 से अधिक देश हिस्सा लेते हैं और इसमें कई सरकारी, सामाजिक और व्यावसायिक लोग पर्यावरण की सुरक्षा, समस्या आदि विषय पर बात करते हैं।

हर साल पुरे विश्व में पर्यावरण दिवस 5 जून को मनाया जाता है. इसे मनाने का एकमात्र यही उद्देश्य है कि आम जनता पर्यावरण के प्रति जागरूक हो और पर्यावरण को लेकर अपनी ज़िम्मेदारियों को समझें, क्योंकि जब एक-एक हाथ आगे आएगा तभी तो पर्यावरण होगा साफ और स्वच्छ।