Business Latest national

आप की सैलरी पर पड़ सकती है GST की मार, टैक्स कम करने को कंपनियां उठाएंगी ये कदम!

अब आपकी सैलरी पर भी पड़ सकता है जीएसटी का असर?  खबरों की मानें तो जीएसटी के असर के चलते पूरे देश में कंपनियां अपने सैलरी स्ट्रक्चर में बड़ा बदलाव करने वाली हैं जो कर्मचारियों को काफी भारी पड़ेगा। ये जनता को लगने वाला सबसे बड़ा झटका माना जा रहा है। हाउस रेंट, टेलिफोन बिल, हेल्थ इंश्योरेंस, ट्रांसपोर्टेशन और मेडिकल बिल जैसे सैलरी ब्रेकअप अगर जीएसटी के दायरे में आ जाएंगे तो कंपनियों को कर्मचारियों की सैलरी नए सिरे से निर्धारित करनी होगी। गौरतलब है कि एएआर ने एक खास मामले में फैसला दिया है। यह मामला था कि कैंटीन चार्जेस के नाम पर कर्मचारी की सैलरी से कटौती जीएसटी के दायरे में होगी या नहीं। इसमें एएआर ने फैसला दिया है कि कैंटीन चार्जेस के नाम पर जो सैलरी काटी जाती है वो जीएसटी के अधीन आएगी। अब जानकारों का मानना है कि इसी तरह से कंपनी द्वारा कर्मचारी की सैलरी से की जाने वाली कटौती जीएसटी के दायरे में आ जाएगी। इस तरह टैक्स विभाग अनुमान नहीं लगा पाता था कि इन सेवाओं पर कितना जीएसटी लगेगा। इन्हीं सेवाओं को आधार बनाकर कंपनियां अपना टैक्स बचाने के लिए कर्मचारियों की सैलरी ब्रेकअप तैयार करती हैं। अब अगर इन सेवाओं पर जीएसटी लगेगा तो कंपनियां कोशिश करेंगी कि जीएसटी को भी कर्मचारी के कॉस्ट टू कंपनी में जोड़ दें। इससे उनकी टैक्स देनदारी पर असर नहीं पड़ेगा।

Tags